शनिवार, 4 सितंबर 2010

जूते का जलवा

जूते का व्यक्ति के जीवन में सदियों से विशेष महत्व है ! जूता जहाँ पहने के काम आता है !राम वनवास के दौरान भरत को राम के खडाऊ के सहारे ही राज चलाया था ! आज कल जूता खूब चर्चा में है और अपने जलवे से व्यक्ति को सोचने पर मजबूर करता है ! जो काम किसी बड़े आन्दोलन से व अधिकारियो से फरियाद करने पर भी नहीं हो सका वो जूते ने कर दिखाया!
बात २२ अगस्त कि है ! हरियाणा के महेंद्रगढ़ में मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हूडा के सम्मान में विधायक व मुख्य संसदीय सचिव राव दानसिंह ने सम्मान रैली का आयोजन किया था !इस रैली में मुख्यमंत्री को काले झंडे दिखाने की राजपूत सभा ने घोषणा कि थी! प्रशासन ने रैली में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम भी किये! मिडिया के लोगो को भी काफी जाँच पड़ताल से दो चार होना पड़ा ! रैली ठीक ठाक चल रही थी परन्तु जब हूडा बोलने लगे तो पब्लिक की तरफ से एक जूता उछाला और सीएम के सुरक्षा चक्र में जा गिरा ! इसी के साथ ही पांच महिलाये भी काले कपडे को लहरा कर खड़ी हो गयी! मिडिया के कमरे उधर घूम गए ! रैली में एकबार व्यवधान भी पड़ा और राव दानसिंह ने सीएम से माइक लेकर जनता से शांति बनाये रखने की अपील की ! पुलिस ने तुरंत उक्त युवक को घेर लिया व काबू कर लिया !
बाद में युवक की पहचान सीएम के गृह जिले रोहतक के गाँव बनियानी के शक्ति सिंह के रूप में हुई !शक्ति सिंह ने यह कदम सरकार की बेरूखी से तंग आकर उठाया ! गाँव में किसी घटना में पुलिस की गोली शक्ति सिंह को पेट में लगी थी उस समय सरकार ने मुआवजे का आश्वासन दिया था ! वही दूसरी तरफ राजपूत नेता कुछ मुद्दों को लेकर सरकार के खिलाफ आंदोलनरत थे ! राजपूत समाज के लोगो का आरोप था की सरकार उनके साथ अन्याय हो रहा है ! उनकी कुछेक मांगों का जिक्र जरूरी है! महेंद्रगढ़ के गाँव पाठेदा के राजपूत समाज की महिला के बलात्कार के दोषियों की लगभग तीन महीने से गिरफ्तारी नहीं हुई ,दूसरा शक्ति सिंह को मुआवजा व नावा गाँव में गोलीकांड के दोषियों को पुलिस बचा रही है! सीएम ने बाद में कारन जाने व करवाई के आदेश दिए !
बेचेत हुआ प्रशासन चेता और कारवाही में लगा ! एक सप्ताह के अंदर बलात्कारी को पकड़ लिया गया !
अब बात आती है की जो काम पिछले तीन महीने से नहीं हुआ उसे पुलिस ने एक सप्ताह में कैसे कर दिखाया ! कारण साफ है प्रशासन सो रहा था ! सरकार के लोग सत्ता सुख में मोज ले रहे थे ! जनता परेशान होकर अधिकारियो के चक्कर लगाती रही ! सरकार व प्रशासन की नींद जूते ने खोल दी ! लोगो ने जूते को विरोध के नए तरीके के रूप में लिया है ! जूते के जलवे ने वो काम कर दिया जो पिछले काफी समय से नहीं हो पाया था !

3 टिप्‍पणियां:

  1. सही है, चलो जूते ने काम आसान कर दिया

    उत्तर देंहटाएं
  2. सरकार और प्रशासन की नींद जूते ने खोल दी

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा. हिंदी लेखन को बढ़ावा देने के लिए आपका आभार. आपका ब्लॉग दिनोदिन उन्नति की ओर अग्रसर हो, आपकी लेखन विधा प्रशंसनीय है. आप हमारे ब्लॉग पर भी अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "अनुसरण कर्ता" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
    डंके की चोट पर

    उत्तर देंहटाएं